JEE Advanced 2020 Syllabus Reduction: कम होगा JEE-अडवांस्ड का सिलेबस?

Spread The Love
JEE Advanced 2020 Syllabus Reduction 
जेईई अडवांस्ड 2020 के सिलेबस को लेकर इसके आयोजक चेयरमैन ने सभी अटकलों को खारिज कर दिया है। उन्होंने कहा है कि जेईई अडवांस्ड 2020 की प्रवेश परीक्षा के सिलेबस में कटौती की बहुत कम गुंजाइश है। एजुकेशन टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, मीडिया रिपोर्ट्स के उलट, जेईई अडवांस्ड 2020 के चेयरमैन सिद्धार्थ पांडे ने स्पष्ट कर दिया है कि सिलेबस कटौती जैसा कोई कदम नहीं उठाया जाएगा। उन्होंने बताया कि चूंकि जेईई मेन का पहला चरण जनवरी में पहले हो चुका है और छात्रों को साल की शुरुआत से ही अच्छी तरह से सिलेबस के बारे में पता है।

उन्होंने एजुकेशन टाइम्स को बताया, ‘मार्च 2020 में महामारी का मामला सामने आया है। उसके बाद जेईई मेन के दूसरे चरण और अडवांस्ड को स्थगित किया गया। इससे पहले जेईई का एक चरण हो चुका है। सिलेबस कटौती हमारे अजेंडा में शामिल नहीं है।’
सिद्धार्थ पांडे, जो आईआईटी दिल्ली के भी प्रफेसर हैं, ने बताया कि संयुक्त प्रवेश बोर्ड की समीक्षा मीटिंग में मुख्य रूप से सितंबर में परीक्षा कराते समय स्वास्थ्य और सामाजिक दूरी के नियमों को लागू करने और छात्रों की सुरक्षा को ध्यान में रखने पर चर्चा होगी। आईआईटी प्रवेश परीक्षा के लिए बोर्ड एग्जाम के मार्क्स की अनिवार्यता समाप्त कर सकते हैं। इस मामले पर भी चर्चा हो सकती है। सीबीएसई और सीआईएससीई समेत कई बोर्डों ने परीक्षा रद्द होने की स्थिति में मूल्यांकन की खास योजना पर अमल किया है, ऐसे में आईआईटी प्रवेश के लिए मार्क्स की अनिवार्यता समाप्त करने पर गौर कर सकता है।

सीबीएसई के सिलेबस में कटौती
कोरोनावायरस संक्रमण को रोकने के लिए देश भर में किए गए लॉकडाउन की वजह से छात्रों की पढ़ाई प्रभावित हुई है। छात्रों का बोझ कम करने के लिए सीबीएसई ने सिलेबस में कटौती करने का फैसला लिया है। सीबीएसई के फैसले को देखकर अनुमान जताया जा रहा है कि जेईई मेन, जेईई अडवांस्ड और नीट के सिलेबस में भी कटौती हो सकती है।

Its organizer chairman has dismissed all speculation about the JEE-Advanced 2020 syllabus. He said that there is little scope to cut syllabus of JEE Advanced 2020 entrance exam. In contrast to media reports, Siddharth Pandey, chairman of JEE Advanced 2020, has made it clear that no steps will be taken as a syllabus deduction, as reported by the Education Times. He told that since the first phase of JEE Main has already taken place in January and the students are well aware of the syllabus since the beginning of the year.

He told the Education Times, ‘In March 2020, there was a case of epidemic. After that the second phase of JEE Main and Advanced was preserved. Earlier, there has been a phase of JEE. The syllabus cuts are not included in our agenda. ‘
Siddharth Pandey, who is also a professor at IIT Delhi, said that during the Joint Admission Board Review Meeting, the examination will be held mainly in September, there will be a discussion on implementing health and social distance rules and keeping in mind the safety of students. Boards can clear eligibility of marks for the IIT entrance exam. This matter can also be discussed. Many students, including CBSE and SSCE, have implemented a special scheme of assessment in the event of cancellation of the exam, such that IITs can be proud of ending their qualification of marks for admission.

CBSE syllabus cut
Students’ studies have been affected by the lockdowns carried out across the country to prevent coronavirus infection. To reduce the burden of students, CBSE has decided to cut the syllabus. Seeing the decision of CBSE, it is speculated that syllabus of JEE Main, JEE Edenad and Neet may also be cut.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *